Tag: शुभकामनाएं

प्रार्थना

जीवन मे सब महत्वपूर्ण चीजें जैसे कि मनुष्य जन्म, मृत्यु, मोक्ष, परिवार, बंधन, यश व अपयश परमात्मा के हाथ में ही हैं। आज भी ये सब उन्ही के यानी के प्रकृति के हाथों में ही है। इसीलिए भलायी इस मे है कि जीवन को… Continue Reading “प्रार्थना”

प्रार्थना

प्रतिपल ईश्वर को अपने जीवन की रक्षा करने के लिए कहना, उन्नति के लिये कहना, कभी कोई कठिन परिस्थिति न आये ऐसा कहना या ऐसा सोचना के कभी सूर्यास्त न हो बिल्कुल गलत है। हमे तो समस्त सृष्टि में अखण्ड भाव से विराजमान ईश्वर… Continue Reading “प्रार्थना”

Being hopeful is the only key to mentally surviving a crisis like this.

Somehow, I have started realizing that only a few people have any idea what they’re talking about & what they are doing in this situation, otherwise most have no idea at all, they are just faking it like a fraud. I am also one… Continue Reading “Being hopeful is the only key to mentally surviving a crisis like this.”

हनुमान जयंती

आप सभी को श्री हनुमान जन्मोत्सव की ढेरों बधाई। कोरोना की इस कठिन घड़ी में आपसे निवेदन है कि सच से सरोकार रखें, सनसनी से नहीं। तथ्यों पर चलें, कल्पनाओं पर नहीं। विवेक को भावुकता से अधिक महत्व दें। यथासंभव नकारात्मक एवं व्यर्थ की… Continue Reading “हनुमान जयंती”

श्री राम की जीवन यात्रा भारतीय संस्कार एवं सभ्यता की प्राण सत्ता हैं।

मुझे नही पता की आप भारतीय परंपरा के सबसे पवित्र, दिव्य और प्यारे नाम “श्री राम” से क्या मतलब निकालते हैं? मुझे नही पता कि आप उन्हें राजा दशरथ के सबसे बड़े आज्ञाकारी बेटे, एक महान और आदर्श राजा के रूप में जानते हैं… Continue Reading “श्री राम की जीवन यात्रा भारतीय संस्कार एवं सभ्यता की प्राण सत्ता हैं।”

हिन्दू नववर्ष २०७८ विक्रम संवत और चैत्र नवरात्रि की बधाई।

आप सभी को को चैत्र नवरात्रि एवं हिन्दू नववर्ष २०७८ विक्रम संवत की बधाई। माँ दुर्गा की उपासना का ये नौ दिन का महापर्व असल मे अपने आत्मसंवरण का अवसर है। व्रत, प्रार्थना, ध्यान और जप द्वारा अपने मन को शुद्ध और पूरी तरह… Continue Reading “हिन्दू नववर्ष २०७८ विक्रम संवत और चैत्र नवरात्रि की बधाई।”

प्रार्थना

दूसरों में कमियां ढूंढने की बजाय, आत्म अवलोकन करना प्रार्थना है। अपनी कमियां उदारता से स्वीकार करना व दूसरों के गुणों की जी खोलकर प्रशंसा करना प्रार्थना है। स्वयं को समझा बुझा कर – ईर्ष्या, द्वेष, गुस्सा, कुंठा, जलन, दूसरों की तुलना करने से… Continue Reading “प्रार्थना”

हर क्षण का एक मोल है और आपका हर पल अनमोल है।

क्या आप इस पल में कुछ खास होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं, कोई विशेष लक्ष्य पूरा होने की, कुछ खास कहने की या सुनने की, अपनी किसी भूल को सुधारने की या किसी पछतावे के अलोप होने की…. नही यह क्षण प्रतीक्षा के… Continue Reading “हर क्षण का एक मोल है और आपका हर पल अनमोल है।”