New Week Blessings

Let your day & the new week be overflowed by laughter, joy, love, happiness & good health. Let you be the best buddy for your world.

Darling listen – speak positive words. Think big. Think healing. Think success. Think peace. Think happiness. Think growth. Please do all of the little things that bring you success & stop waiting till you “have time”—make the time. Manage your energy wisely. Don’t use it on things that do not take you forward in life..

I wish & hope that this week offers you a little bit more of the things that bring you happiness, cheers & success.

Tons of Blessings 💐

रविवारीय प्रार्थना – क्षुद्र से जुड़ने की बजाये अपने विराटस्वरूप से जुड़ जाना ही प्रार्थना है।

हम सभी सुख चाहते हैं और दुख से बचना चाहते हैं। हम सब चिरस्थायी सुख चाहते हैं जिसमे दुख का लवलेश मात्र भी न हो, जिसमे कभी कोई कमी न आये। ये कोई नई बात थोड़े ही है। हजारों हज़ार साल से इसी अक्षय सुख (मोक्ष) की प्राप्ति ही इंसान की सबसे बड़ी चाहत रही है।

हमारी ये चाहत कोई गलत नही है। बल्कि मेरा तो ये मानना है कि इस सृष्टि के समस्त प्राणियों में केवल मनुष्य ही है जो शाश्वत सुख यानी के मोक्ष का अधिकारी है। मनुष्यों को ही ऐसी बुद्धि प्राप्त है कि वे जीते जी ब्रह्म का साक्षत्कार कर सकते हैं और अपने कर्मों से इस जीवन का परम लाभ उठाते हुए अक्षय सुख प्राप्त कर सकते हैं। यही तो हमारा लक्ष्य है और इसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिये पुरषार्थ और शुभ कर्म करते रहने हमारा धार्मिक कर्तव्य और प्रतिबद्धता है।

परन्तु ये बात सब को मालूम होने के बावजूद की वास्तविक अक्षय सुख की चाहत रखने वालों को केवल सत्कर्म यानी के पुण्य कर्मों में संलग्न रहना चाहिये, तात्कालिक सुख प्राप्त करने की होड़ में, लोभ, अहंकार, लालच, ईर्ष्या और गुस्से की वजह से हम उल्टे कर्म और असदाचरण करते रहते हैं। बताईये क्या आप को इससे पहले मालूम नही था कि पापकर्मों का परिणाम अकल्याणकारी होता है और पुण्य कर्मों का फल कल्याणकारी होता है, इस सच को भला कौन नही जानता।

लेकिन ये भी सच है कि आम तौर पर मनुष्य पूण्य के फल की इच्छा तो रखता है लेकिन पूण्य कर्म करने की इच्छा नही रखता है। जिस पापकर्म के फल को वो कभी नही चाहता उसे क्षण भर के सुख की वजह से, अज्ञानता एवं कुसंस्करो की वजह से दिनरात करने में लगा रहता है।

अपने द्वारा किये पापकर्मों के फल को काटने के लिये फिर लोग ईधर उधर दौड़ते फिरते हैं, चमत्कारों को ढूंढते हैं। लेकिन कोई भी डॉक्टर आपको दवाई बता सकता है आपकी जगह दवाई खा कर आपकी बीमारी ठीक नही कर सकता है। इसी लिये हमारे सभी सन्त महात्मा और ग्रँथ केवल सदाचरण और पुण्यकर्मों को ही हमारी सब लौकिक और पारलौकिक प्रतिकूलताओं का समाधान बताते हैं।

याद रखिये की कोई चमत्कार, कोई अन्य व्यक्ति या आपके द्वारा पल भर के लिये किया गया धर्म-दान-पुण्य के नाम पर पाखंड और प्रपंच काम नही आएगा। केवल आपके द्वारा किये गये भागवत भाव से पुण्य कर्म, सद्विचार, साधुता, सदाचार ही आपको वास्तविक सुख (मोक्ष) प्राप्त करवा पाएंगे, ईश्वर को आपके भीतर से प्रकट करवा पाएंगे और आपके उच्चतम लक्ष्यों को प्राप्त करने में आपके सहायक सिद्ध होंगे।

लेकिन मैं मानता हूं कि ये दुनिया बहुत बड़ी है, उसमें बहुत तरह के लोग हैं, उसमें अगर कोई चमत्कार से कोई चीज हासिल करना चाहता है तो उसे इस का हक है। और अगर कोई ऐसा कर सकता है तो उसे नमस्कार है, उसको इसका हक है और उसे करना ही चाहिये। अगर चमत्कार करने वाला और चमत्कार मनाने वाले, दोनों ही मजा ले रहे हैं, तब कोई बीच मे क्यों बाधा डालें। उनको जो करना है करने दीजिए। आपको क्या करना है मैंने समझा दिया है 🤭।

मेरा मानना है कि जो आप अपने स्व:भाव, कर्म, वाणी और विचार से बन सकते हो, वो बनने में पूरी तरह संलग्न रहना ही प्रार्थना है। किसी भी रूप में क्षुद्र से जुड़ने की बजाये अपने विराटस्वरूप से जुड़ जाना ही प्रार्थना है। इसीलिये क्षुद्रता, नीचता, ओछेपन, छिछोरेपन के कामों – गतिविधियों से बचना, निरन्तर चिन्तन और विवेक से पुण्यकर्म करते रहना, वाणी से मधुर और विचारों में सकारात्मक बने रहना उनकी सर्वोत्तम प्रार्थना है।

आज मेरे आराध्य प्रभु जी से प्रार्थना है कि आपके पुण्य कर्म, आपकी संकल्प-निष्ठा और सकारात्मकता आपके दैनिक व्यवहार एवं गतिविधियों से झलकती रहे तथा न सिर्फ आप अपने पूर्वजों द्वारा किये गये पुण्य कार्यों को आगे बढा पाने में सफल हों बल्कि दूसरों के पुण्यों के संचय में भी निमित्त बन पायें। उनसे प्रार्थना है कि आप दीर्घायु हों और सदैव स्वस्थ एवं श्री संपन्न रहें तथा आपके समग्र लक्ष्य जल्द ही सिद्ध हों जायें। आपके आनंद में झूमते जीवन के लिए मंगल शुभकामनाएं 🙏

श्री रामाय नमः। ॐ हं हनुमते नमः।।

Believe me finding your ikigai is easier than you might think!

If you’re wondering, “Does life have a purpose?” My answer will be: Yes, surely it does.

Perhaps, right now, you don’t know what yours is. Don’t worry – you’re not alone. Lots of people have felt lost at one point in their lives, only to discover their purpose later on.

I wish you to know that you don’t need a massive purpose in life.

Darling listen – Taking care of your family, being able to travel the world, doing what you want or love, not worrying about the expenses, making sure that your parents retire & live blissfully/ abundantly ever after, fighting for a social cause, being a positive & supportive person for your loved ones, building something (enterprise) that makes a difference in people’s lives around the world, inspiring people to be their best, healthiest & happy version of themselves.

Just remember to have something that keeps you busy doing what you love while being surrounded by the people who love you. That’s all the “purpose” one needs.

But it can be completely different for you or anyone else. Also please note that your purpose can be different from your family members & friends. Nothing wrong with it! Sweetheart, your life purpose can look however you’d like.

All I can say is, you are not purposeless, you surely have a unique purpose (like your fingerprint) in this world. You have a particular set of talents, experiences, skill sets, interests & desires that have made you the perfect candidate for something unique. All you have to do is – find it & live it. Let you use everything in your control to live a happy, healthy, meaningful & long life.

Sweetheart, according to the Japanese, everyone has an IKIGAI. It means your purpose – the reason you get up in the morning. The thing that fires you up & keeps you busy. It’s the place where your needs, desires, ambitions & fulfillment meet. A place of balance. Your ikigai is actually linked to a long, happy, healthy & meaningful life.

Essentials to happiness in this life are something to do, something to love & something to hope for.

I wish & hope that you find your ikigai very soon & be able to make every single day of your life more joyful & meaningful.

Good Luck & Tons of Blessings 💐

Dedicated to your success, good health & true happiness!

I wish to remind you that life is passing us by & that we really have to catch up 🤭.

No matter where you are right now or what you are doing in life, this is the time to take things up a notch. Even if things are going fine, it’s time to reach the next level. Afterall, life is all about improving, moving ahead & not staying still. It is always about upgrading your life & getting to the next level.

If you ask me everyone has the same goal – getting finer, healthier & wealthier, but everyone has different ways of achieving them. However, there are same things that hold most of the people back from actually growing, evolving & going to the next level.

Choosing feeling good over what’s actually good for you, always remaining stuck in your own head or past, unnecessary emotional entanglements, unhealthy habits/ routines/ lifestyle, neglecting health, procrastination, most of time thinking what you’re not… are some of those things that hold most of the people from achieving their dreams, true happiness, fulfilment & success.

Darling listen – if you don’t take the next step & stick to the same old routine every day, you can never truly realize the potential of what you & your life can actually be.

Sweetheart, going to the next level in life is not a walk in the park. Those who push forward – only get rewarded. Consider making a list of five things you must do today that will get you a few steps closer to your massive goals. Use this day & every other day for the creation & expression of who you really are.

Believe me, life hits differently when you think of becoming finer, healthier & wealthier as first thing in the morning & focus on doing those things that matters most before anything else.

Ready to reach the next level in life ✨✨

Good Wishes & Blessings 💐

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं 💐

हमने निश्चित ही एक लंबा सफर तय किया है.. 🇮🇳 💪

हमारी एकता, अखंडता, सम्प्रभुता तथा प्रगति के लिए समर्पित सभी महान विभूतियों को श्रद्धापूर्वक नमन है 🙏

आप को 74 वें #गणतंत्र_दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। आप अपने परिवार, समाज और देश के गौरव और समृद्धि को बढ़ाने लिए सदा प्रयासरत रहें। ईश्वर से प्रार्थना है की वे आपकी दक्षता, क्षमता एवं सामर्थ्य में उत्तरोत्तर वृद्धि करने की कृपा करें। मंगल शुभकामनाएं।

Since attitudes are contagious, you must ask yourself, “Is mine worth catching?”

I am sure you must have noticed that when you are with happy, positive, enlightened people, you too begin to have positive thoughts, start interpreting things more positively & start behaving (acting) more positively. This also works the other way around 🤭. If you surround yourself with negative & pessimistic people, you too become pessimistic, negative & start blaming, accusing everything & hauling over the coals.

What I’m trying to say is, attitudes are contagious. We all know this. But everyone thinks in terms of how others’ attitudes affect them. They dont think about their own attitude, they don’t give much thought to how it affects the people they come into contact with.

If you still haven’t come to realization about whether you give off a negative or positive attitude, ask yourself today – Is it positive or the negative? “Is mine worth catching?”

Darling listen- your attitude not only affects you, but it also majorly affects the people around you – your family, friends, colleagues & peers.. So think about it, you aren’t only accountable for your own happiness, peace & success, but you are also accountable for others people’s happiness, peace & success, just with your attitudes. It’s a proven fact that attitudes rub off! The next time that you are about to whine & complain about everything you hate, stop yourself & instead, talk about positive & enlightening subjects. This will not only benefit you, but it will also benefit the people around you.

Sweetheart, please choose to focus on the positive, be optimistic & constantly breathe life into every interaction & action if you want to have a more successful, fulfilling & satisfying life.

I am saying this because I have seen that most of the spiritual, happiest & real successful people in the world tend to have great & positive attitudes.

Believe me, small steps, consistent efforts & a positive attitude can lead to big changes. Have a positive attitude that says, no matter what happens, I will beat it 💪! That’s how you’re going to get through 2023!

Sweetheart, be positive, be grateful, allow yourself to connect more heartily, contribute & laugh more to see how a small change in your attitude not only makes you see all the bright things in front of you, but also makes your life more beautiful & fulfilling.

I wish & hope that you gain a fresh, new attitude – the kind of attitude that is worth catching & extend joy, fun, confidence, happiness, peace & encouragement to your world.

Good Luck & Blessings 🎉

Success blossoms from the soil of determination & not privilege.

To bloom with grace, no matter where you are planted, is a superpower & is a sign of godliness.

Darling listen – flowers do not complain about where they are planted. They make the best use of water, sunlight, soil & warmth available to them & bloom into their best. You must do the same & not worry about where you want to be, but make the best of where you are ✌️.

Always remember that – success blossoms from the soil of determination & not privilege. Let you find ways to bloom into your healthiest, happiest & best version.

I wish you to know that it is your time to bloom, to rise & to shine. Let you become more of yourself, stronger, expanded, blessed, aware, connected & determined in all the possible ways.

Tons of Blessings 💐

Do your best, be a blessing & carry on…

I wish you to know that each day is a great opportunity to step into more of what you are meant to be & to live, not as the unwise but as the wise.

Remember that with each day life bring us a chance to make a difference & be a blessing. Choose to be thoughtful & mindful of your thoughts, words, actions & reactions.

Darling listen – whatever your hand finds to do, do it with all your might, enthusiasm & excitement. Take advantage of the time you are given in this week, month or year & make the best use of it. That’s the only way to achieve good health, happiness, success & greatness.

Sweetheart, do your best, be kind & carry on… 💪

I wish & hope that your new week remains fulfilling & rewarding.. Good Luck & Tons of Blessings 💐

रविवारीय प्रार्थना – आप आगे जा रहे हैं या दिन प्रतिदिन पीछे की तरफ ???

उत्सव आत्मा का का मूल स्वभाव है और मेरा मानना ही कि ईश्वर और ईश्वरियता भी एक मायने में उत्सव है, सतत उत्सव – एक महोत्सव ही तो है।

अपने आसपास देखेंगें तो पायेंगे कि पक्षी, पशु, पेड़, पौधे, फूल, सभी अपने होने का अपने जीने का जश्न मना रहे हैं। आप चारों तरफ गौर से देखोगे तो पाओगे की फूलों में, वृक्षों में, आकाश में सब जगह ही उत्सव है प्रफुलता है, नाच है। प्रकृति में एक क्षण को भी उत्सव ठहरता नहीं है – हर जगह नाच चलता ही रहता है, झरने बहते ही रहते हैं, फूल खिलते ही रहते हैं। जरा गौर से देखो, आपको क्या कहीं भी उदासी दिखाई पड़ती है? क्या कहीं भी इस सृष्टि के विराट स्वरूप में, कहीं जरा से भी किसी कोने में कहीं आपको उदासीनता, चिंता, खिन्नता, विषाद, निष्क्रियता या उद्विग्‍नता दिखाई पड़ती है? नही, कंही भी तो नही।

आप अगर सरल – सहज और शात हो रहे हो पहले से, मौन हो रहे हो पहले से, आपके जीवन में उत्सव की थोड़ी सी भी किरण आ रही है, अंधेरा थोड़ा कम मालूम पड़ता है पहले से, दीए की लौ स्थिर होती मालूम पड़ रही है, प्रेम बढ़ रहा है, जीवन में थोड़ी गुनगुनाहट आ रही है, नाचने का मन ज्यादा कर रहा पहले से तथा जीवंतता बढ़ रही है तो समझना कि आप आगे जा रहे हो, आध्यात्मिक मार्ग पर चल रहे हो। आपका जीवन भव्य, विशाल और दिव्य बनने की राह पर है, सुंदर और उत्कृष्ट हो रहा है। अगर आप ये सब प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से महसूस नही कर रहे हैं तो यकीन मानिये की सब कुछ बदलने की – कुछ नया शुरू करने की या जो कर रहे हैं उसे बंद करने की जरूरत है।

इसलिए हम सब को सजग रहना होगा – समझना होगा और हर दिन सिंहावलोकन करना होगा कि कि हमारे मार्गदर्शक, हमारी आस्थायें, परम्पराएँ, संस्कार, विचार, आदतें तथा दैनिक गतिविधियाँ हमे आगे ले जा रहे हैं या दिन प्रतिदिन पीछे की तरफ धकेल रहे हैं???

अगर आप मे या आपके जीवन मे उदासीनता, विरक्तता, अनर्थकता, घृष्टता, ढीठता, मानापमानबोध शून्यता, धूर्तता, कुटिलता, कपटीपन, अहंकार, पाखण्ड, प्रपंच, अधीरता और असंतुष्टता बढ़ रही है तो यकीन मानना की कहीं चूक हो रही है। जिसे आप ऊपर जाना समझ रहे हैं, वह ऊपर जाना नहीं है, वो नीचे उतरना है।  आप जो पहले थे अगर वो भी आज की तारीख़ में नही रहे, समय के साथ और कठोर हो गये, संवेदनशीलता बढ़ी नहीं – घट गई, सौंदर्य का बोध बढा नहीं – नष्ट हो गया, प्रेम फैला नहीं – बल्कि खत्म हो गया, थकी-थकी सांसें, उदास पथरीलापन ले कर कोई कंहा कोई श्रेष्ठ हो सकता है? अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकता है? कैसे ईश्वर का अनुभव कर सकता है? ये कंहा की उन्नति है – बल्कि जिसे आप उन्नति, बड़प्पन या उत्कर्ष समझ रहे हैं वो तो अधोगति है, अवनति है, पतन और नाश का एक रूप है।

जिसे सही ज्ञान नहीं है, उसके लिए होली दिवाली साल में एक ही बार आती है, लेकिन जो सच मे पवित्र हैं, धार्मिक हैं, पुण्यात्मा हैं, भक्त हैं, प्रबुद्ध और आध्यात्मिक हैं उनके लिए हर पल और हर दिन होली है – दिवाली है, उत्सव है।

इसीलिये मेरा ये मानना है कि जिस जिस किसी के आभा-मंडल में अंधेरा नहीं, बल्कि आकाश सा विस्तार, सूर्य की किरणें पाओ, जिस के जीवन में आप प्रफुल्लता पाओ, प्रसन्नचित्तता पाओ, पवित्रता पाओ, जिसकी गुनगुनाहट आपको उसके पास जाते ही सुनाई पड़े, जिसके पास अनूठी ऊर्जाओं का नृत्य देखो और जो आपका हाथ भी पकड़ कर अपने नाच में शामिल करने के लिये उतावला दिखे, इनसे ही पहचान करना। यही हैं जो आपको आगे ले कर जायेंगे आपका सही मार्गदर्शन करेंगे, आपके जीवन को ऊंचा उठाने में आपकी सहायता करेंगे। आपके बोध जीवन को मंदिर में प्रवेश कराएंगे, उस परमात्मा के निकट पहुंचने में आपकी मदद करेंगे जो जीवन का मूलस्रोत है – मूल धारा है।

मैं ये तो नही कह सकता हूँ कि बाकी के लोग आपको अंधेरी घाटियों में ले जा रहे हैं या वे आपको कब्र में ही उतारकर दम लेंगे, बस ये जरूर कह सकता हूँ कि वे गुरु नही हो सकते हैं और न ही वे आपको ईश्वरय अनुभव को प्राप्त करवा पायेंगे और न ही आपकी यात्रा कभी पूर्ण या सफल होने देंगे।

उत्सव से मेरा अर्थ है: धन्यवाद की अभिव्यक्ति – अपने आनंद की अनुभूति। छलकता हुआ आनंद और कृतज्ञता केवल शब्दों से नहीं, बल्कि जीवन जीने के ढंग, अपने आचरण और अपनी दैनिक गतिविधियों से प्रदर्शित करना ही उत्सव है और एक तरह से हमारी प्रार्थना भी है।

अपने चित्त से सभी प्रकार की मलिनताओं को मिटाने का प्रयास, अपने विचार तथा वृतियों को ऊंचा उठाने के प्रयास, अपने जीवन में लालित्य को नित्य बढ़ाने के प्रयास, नैतिक- अनैतिक, कर्तव्य-अकर्तव्य और उचित-अनुचित में फर्क करने और लगातार अनुचिंतन करना ही प्रार्थना है। आप जो भी कार्य करते हैं, उसे बोधपूर्वक करना, दिन प्रतिदिन सरल होते जाना, प्राकृतिक होते जाना तथा अपने होने का हर क्षण उत्सव मनाना और हर क्षण उत्सवमय ढंग से जीना ही हमारी सर्वश्रेष्ठ प्रार्थना है।

आज मेरे आराध्य प्रभु जी से प्रार्थना है कि क्षण प्रतिक्षण आपका अहोभाव बढ़ता चला जाये, आप दिन प्रतिदिन सहज, सरल, विनम्र, सौम्य और मृदभाषी होते चले जायें। आपको हर पल में उत्सव मनाना आ जाये।

मेरी उनसे आज ये भी प्रार्थना है की आपके सभी शुभ संकल्प तथा मंगल कार्य सदैव सफल हों, आपके घर-आंगन में सदैव शुभता और मांगल्य की वर्षा होती रहे तथा आपके उत्साह, आनंद और उल्लास में तेजी से वृद्धि हो। 

आप को शतायु, स्वस्थ और सशक्त जीवन के लिये ढेरों ढेर मंगल शुभकामनाएं 🙏

श्री रामाय नमः। ॐ हं हनुमते नमः।