How much happier will you live or how much more of God’s favor will you see, all depends on what you think, say & do.

Today I wish you to know that you create your own reality. What you focus on is what you draw into your life. It means what you believe will happen in your life is what happens in your life. It actually means whatever you’re constantly thinking, saying or doing, you’re moving towards that.

When you say, “I am blessed,” you’re moving toward blessings & when you talk about the lack or aspects of your life that you are unhappy with, you move towards negative outcomes & bad experiences.

Darling listen – how much further will you go, how much happier will you live, how much more of God’s favor will you see, all depends on what you think, say & do everyday.

Make a habit to think, talk & act like you are so much wise, strong, brave, smart, beautiful, healthy & blessed.

I pray God for you to experience increase in the flow of your blessings. Let every day of this new week bring positivity, happiness & good cheers to your life.

Good luck & Best Wishes 💐

रविवारीय प्रार्थना – जब फल तैयार हो जाता है तब ईश्वर स्वंय उसके रस, स्वाद और सुगंध के रूप में प्रकट होने लगते हैं।

हम सब सदियों से और परम्परागत रूप से इस रहस्य को जानते हैं कि धरती के एक-एक कण में ईश्वर हैं। सृष्टि के सभी प्राणियों की अंतरात्मा उन्ही का एक अंश है।

जब प्रत्येक जीव के भीतर ईश्वर शुद्ध चेतना के रूप में प्रतिष्ठित हैं तो क्या कारण है कि हम उन्हें सब प्रकार के जतन कर के भी खोज नही पाते हैं, प्राप्त नही कर पाते हैं और सारा जीवन उनके होने की अनुभूति से भी वंचित रह जाते हैं।

मेरे अनुसार उसका एक कारण ये है कि वे कोई खोजने की चीज़ नही हैं। उन्हें तो प्रकट करना होता है स्वंय के भीतर से। दूसरा ये की हमारे व्यवहार में , विचारों में और कर्मों में अपूर्णता रहती है।

याद रखिये की जब फल तैयार हो जाता है तब वे खुद ब खुद उसके रस, स्वाद और सुगंध के रूप में प्रकट होने लगते हैं। उसी प्रकार जब हम पूर्णतः तैयार हो जाते हैं यानी के जब हम मन, वचन और कर्म से पवित्र और दिव्य हो जाते हैं, विनम्र और सदाचारी बन जाते हैं, निश्छल हो जाते हैं, जब जीवन में पूर्ण निर्दोषता आ जाती है तो वे खुद ब खुद आपके पास चले आते हैं, आपसे प्रकट होने लगते हैं।

उन्हें अपने आचार विचार, व्यवहार, भावना, वाणी और कर्म से प्रकट करने का प्रयास हमारा प्राथमिक लक्ष्य बन जाना ही हमारी सही मायने में प्रार्थना है।

संसार में अपने धर्म के अनुसार कर्तव्यों का ईमानदारी और जिम्मेदारी से निर्वाह करना, सादगी व नम्रता से उच्च स्तर का जीवन जीते हुए सरल बने रहना, दूसरों की खुशियों में खुश रहना और निरन्तर अपने ईष्ट देव और आराध्य के रूप में उनका चिंतन-मनन करते रहना ही हमारी प्रार्थना है।

मैं आज अपने आराध्य प्रभु से प्रार्थना करता हूँ की आपके जीवन की दैनिक क्रियाओं में अधिक से अधिक सज्जनता, पवित्रता और दिव्यता आ जाये, सकारात्मकता, सहजता और सरलता आ जाये जिससे आपको उन की कृपा-आशीष-अनुग्रह का अनुभव होने लगे।

आपके उत्तम स्वास्थ्य, प्रसन्नचित मनोदशा और समृद्ध जीवन की कामनाओं के साथ साथ मैं आज उनसे ये भी प्रार्थना करता हूँ कि जल्द ही आप अपने उच्चतम आध्यात्मिक लक्ष्यों को प्राप्त कर लें। मंगल शुभकामनायें।

श्री रामाय नमः। श्री राम दूताय नम:। ॐ हं हनुमते नमः।।

Be a God’s greatest gift for your world.

Today, I wish you to know that it is a miracle to find someone who knows your worth & remind you of it often. Someone who will make you their choice every single day. Someone who never gets tired of listening your bakwas. Someone who will be with you unconditionally & never give up on you.

It is really amazing to find someone who sees everything that you are & can be. The one who sees your real & full potential. The one who sees endless possibilities in you. The one who won’t let you to be anything less, no matter what.

It is incredible to find someone who can make you to see yourself – as someone who matters, as someone who is more than good enough & as someone who can make a difference in this world.

Darling listen – I also want you to be that God’s greatest gift for someone.

Let you begin to encourage & inspire others, speak kind words, do good deeds, bless & pray for others.

I Pray God to help you attract more such amazing people in your life & also show you how you can become a blessing to people around you.

Tons of good wishes & blessings 💐

Be less motivated by your animal nature & more by your spiritual nature…

I wish you to remind that you are the masterpiece that your ancestors spent their entire life building up to…

Darling listen – Honor their efforts & sacrifice.

Be the best you can be today & everyday. Hold yourself to the highest standard & conduct.

Every one of us have our own set of ethics, principles & moral codes. Live true to them every day. Be a good person & a peaceful heart.

keep your words & be the one who people can rely on. Sweetheart, you’re never supposed to become looser, creep, liar, cheater or fraudster. You were always meant to be a winner, noble, sincere, truthful, honest & good person.

I want you to be the one who is less motivated by it’s animal nature (fear, greed & envy ) & is more motivated by it’s spiritual nature (goodness, humanity, service & sacrifice)

Let you constantly light up your world with your success, good thoughts, kind words & good deeds.

Good wishes & blessings 💐

Let that be your vibe from this day forward…

As you spend your day today, remember to love your life more & more. It’s the only way we all are supposed to live.

Today I wish to remind you once again that we are all on earth with millions of species, 30,000 different life forms & roughly over 7 billion people. Like us, everyone is thriving in their own way, existing, co-existing & co-creating. There’s so much we don’t know out there & so much to be experienced that is just wonderful.

That’s why everyday goal should include – making your daily life a little more interesting, exciting, meaningful & a fascinating experience, being the reason why people believe in pure hearts, doing things that are good & right silently for your beloved ones (& not for pats on your back), enjoy doing what you love, being with people you love, making an impact on the world & growing as a person.

Darling listen – let that be your vibe from this day forward.

Wishing you & your family good health, happiness & prosperity 🙏

It’s time for you to start practising self reflection..

Today, I wish to remind you that a couple of your primary goals after waking up should be to reflect on your actions, missed opportunities of the previous day & mistakes you made yesterday, to start seeing the world with a sense of optimism & to put the building blocks in place.

Darling listen – I am talking about scrutinizing & reflecting on your thoughts, habits, behavior, beliefs, practices, actions & motives…

Every world champion, business tycoon & spiritual guru do this everyday & commend self-reflection as an essential key to their success, happiness & fulfillment.

If self-reflection isn’t a regular part of your life right now, this is your wake-up call. It’s time for you to start practising self reflection.

Let me remind you that – whichever step you take is perfect. Just give some thought to self reflection. No need to google it. There’s no ‘right’ or ‘wrong’ way to do this. It’s only what works for you.

Always remember – purpose is to grow, evolve & strive to be a better version of yourself everyday.

I pray & wish that your thoughts, words & activities begin to attract better & greater. Tons of Blessings 💐

Always Be the Bigger Person!

I sincerely wish & hope that you never have to act out of temptation or frustration & never ever have to speak out of anger. I wish you to become a bigger person with greater capacity for love, calmness & understanding. Today, I want you to rise above pettiness, ignorance, insecurities, bitterness & vindictiveness.

Let me clear that being the bigger person does not mean letting someone bully you or walk all over you. Being the bigger person, for me, means always doing the right thing, even if someone else is being childish or mean. Being the bigger person means keeping your eyes on your higher goals & not getting distracted by the other person’s pettiness & bad behavior.

For me being a bigger person means – instead of striking back out of temptation, choosing to leave thing in the hands of God, who never failed to judge fairly. Being the bigger person is knowing when to stop & choosing to walk away. Let your silence fight some of your unworthy battles. Let karma & mysterious workings of the universe take care of it.

Darling listen – in my opinion it also means thinking less about your own narrow concerns & more about other’s. It means trying & engaging in activities & conversations that makes your world a bit more brighter, better, happy & peaceful.

Let you gradually reorder your habits & attitudes to act, react, think, speak & behave like a big person, real Big Person.

I pray God to magnify your tiniest effort & open doors of blessings for you & favour you in all the possible ways. Be of Good Cheer 💐

Become the kind of person who not only pretends to be good but is also a really good person…

While I wish you a pleasant new day & week, I pray God to grant you more life, knowledge, clarity, agility & power in this new week. Let it come with a lot of answered prayers & loads of blessings.

Darling listen – I want you to become a person who always leaves a mark, an impression, an impact & never a scar. I want you to try becoming the kind of person who not only pretends to be good but is also a really good person.

I want you to become the person you wish you had in your life. Whole week & thereafter – keep trying, practising & becoming this kind of person not only because we need more people like that in the world, but also because such people are rarer than the rarest diamonds & gold.

I have brought this thought here because I wanted to remind you that people are remembered most for who they were, not what they accomplished in life. Now, in case you are moving further & further away from the person you should or want to be, it is wise to notice that as soon as possible so that the course correction can become easier, more efficient & more effective.

Let all of us change for the better in this week.

Good luck & Tons of Good Wishes 💐

रविवारीय प्रार्थना – ईश्वर आपके गणित से, चालाकियों से, मूर्खतापूर्ण तर्कों से नही, बल्कि केवल प्रेम से, निर्मल ह्रदय से, भाव से, श्रद्धा से और समर्पण से प्रभावित होते हैं।

हम सब जानते हैं कि देव-अनुग्रह और प्राकृतिक अनुकूलताएँ कैसे प्राप्त होती हैं। हम सब जानते हैं कि अपने चारों तरफ स्वर्ग का निर्माण कैसे किया जा सकता है। हमारे जीवन सिद्धि और इसके उत्कर्ष की असली सीढ़ी क्या है।

हम सब जानते हैं कि आध्यात्म के रास्ते चल कर ही जीवन मे (या उसके बाद) कुछ पाया जा सकता है। हम सब जानते हैं कि जिन भी लोगों ने अपने जीवन मे आध्यात्मिक उन्नति की है, सिद्धि और श्रेष्ठता प्राप्त की है, उनके सम्बंध और सहारे केवल वे नैतिक सद्गुण और बौद्धिक सद्गुण रहे जिन्हें हम सब जानते तो हैं, मगर अपनाते नही हैं। वो नैतिकता, सत्यनिष्ठा और पारमार्थिक-भावना रही है जिसे हम जानते तो हैं पर अपनाने से कतराते हैं।

मैं एक बार पुनः याद दिला दूँ की देव अनुग्रह-आशीष का अधिकारी वही है जो सामर्थ्यवान होते हुए भी विनम्र है, सरल और सहज हैं, जो शुभ विचार – शुभ भावना रखता है और शुभ कार्य करते रहता हैं। जो विवेक-संपन्नता के साथ सकारात्मक सोच और विधेयक विचार भी रखता है। हम सब जानते हैं कि धर्म एवं नीति के विरुद्ध किये जानेवाले आचरण से, अनैतिक कार्यों से, दुर्भावना, क्रोध, अहंकार, छल कपट, लोभ, झूठ, मक्कारी से उनकी कृपा, सिद्धि या श्रेष्ठता नहीं पाई जा सकती है, कभी नही।

जैसे कोई रोग हो जाए तो जितने डॉक्टर के पास जाओ उतनी ही तरह-तरह की दवाएं और हिदायतें दी जाती हैं। वैसे ही उनके अनुग्रह को और आध्यात्मिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के नाना तरीके हैं। और लोग बताते भी रहते हैं। मुझे नही पता कि क्या सही है और प्रमाणिक है। लेकिन मैं केवल एक बात जनता हूँ की वे छल-कपट से और छल-कपट करने वालों से बहुत दूर रहते हैं। और छल-कपट रहित निर्मल मन वालों के बहुत पास रहते हैं।

बिना मन निर्मल किये ही हम यंहा वँहा के चक्कर लगाते फिरते हैं। इनके उनके दर्शन और आशीर्वाद लेते रहते हैं। प्रवचन सुनते रहते हैं। व्रत-उपवास भी करते रहते हैं। लेकिन अपनी मनोदशा क्या है, हमारा आतंरिक स्वभाव क्या है, वास्तविक क्या है, ये हम स्वयं जानते हैं। हम बस स्वंय को धोखा देने में लगे रहते हैं।

यदि आप सोचते है कि आप छल कपट से ईश्वरत्व, उनकी कृपा जीवन सिद्धि या उत्कृष्टता को प्राप्त कर लेंगे तो आप भ्रम में जी रहे हैं, स्वंय को धोखा दे रहे हैं। अगर आप सोचते हैं कि अपने गणित से, चालाकियों से, अनैतिक कार्यों से, मूर्खतापूर्ण तर्कों से उन्हें प्राप्त कर लेंगे तो ये आपका मिथ्या भरम है। वे केवल और केवल प्रभावित होते हैं प्रेम से, निर्मल ह्रदय से, भाव से, श्रद्धा से और समर्पण से।

मैं आपको ये भी बता दूं कि आपका आतंरिक स्वभाव, आपका प्राकृतिक स्वभाव सुंदर है, वे जैसा चाहते हैं, शायद वैसा ही है। इसीलिए मेरा मानना है कि हम जैसे लोगों के लिये अध्यात्म शायद निजता अर्थात् अपने सवः भाव (स्वभाव) की यात्रा है। अतः आध्यात्मिक अंत:करण को निर्मित करने और आध्यात्मिक जीवन शैली जीने की कोशिश ही हमारे लिये उनकी प्रार्थना है। आप दैनिक जीवन मे जो भी कहते हैं, करते हैं वो या तो आपको उनकी कृपा का पात्र बना रहा है या पात्र बनने से रोक रहा है। बस यही समझ, चेतना और इस बात का लगातार ध्यान रखना ही एक मायने में हमारे जैसे नाचीज़ लोगों के लिये प्रार्थना है।

मैं आज अपने आराध्य प्रभु से प्रार्थना करता हूँ की आपके सारे रोग, विकार, दोष, दुःख, तनाव सब खत्म हो जायें, आप जल्द ही सामान्य चेतना से दिव्य चेतना में प्रतिष्ठित हो जायें, आपकी सुप्त पड़ी हुई शक्तियां, दिव्यता, ज्ञान, भावनाएँ और गुण जागृत हो जायें जिससे आपकी आत्मिक प्रगति और आध्यात्मिक उन्नति की राह जल्द ही प्रशस्त हो सके।

आपके संचित कर्म हर बीते हुए दिन के साथ मजबूत होते चले जायें जिससे आपको भगवत कृपा और स्थायी आनन्द प्राप्त हो सके, ऎसी भी मेरी ईश्वर से प्रार्थना है।

आप को शतायु, स्वस्थ और सशक्त जीवन के लिये ढेरों ढेर मंगल शुभकामनाएं 🙏

श्री रामाय नमः। श्री राम दूताय नम:। ॐ हं हनुमते नमः।।